Skip to main content

Posts

कलि को तरने का उपाय

कलि को तरने का उपाय


युग चार हैं-सत  युग, त्रेता युग, द्वापर युग और कलि युग। ऐसा कहा जाता है कि सत युग मे धर्म चारों पादों पर चलती है। त्रेता युग मे तीन पाद पर चलती है, एक पाद अधर्म का हो जाता है। द्वापर युग मे दो पाद धर्म के और दो अधर्म के हो जातेहैं। कलि युग के आने पर धर्म एक पाद पर चलती है एवं अधर्म तीन पादों पर चलती है। कलि युग मे अधर्म ही हमे दिखाई देता है, इसको तरना तो मुष्किल है।
कलिसन्तरणोपनिषत से पता चलता है कि द्वापर युग के अन्त मे महर्षि नारद ब्रह्मा्जी से कलि को तरने का उपाय पूछते हैं। ब्रह्मा जी बताते हैं कि आदिपुरुष नारायण के षोडशनाम कलिकल्मशनाश हैं यानि कि कलिे के पापों को नाश करने वााला है। यह षोडशनाम यानि सोलह नाम हैं-- हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे। हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे॥ इसके विधि-विधान के बारे मे नारद जी के पूछने पर व्रह्मा जी कहते हैं कि इसका कोई विधि-विधान नही है सर्वदा शुचि व अशुचि अवस्था मे पढ सकते हैं।
Recent posts
MOHA MUDGARA
In day to day life, we see several beautiful objects and we wish to possess them. One desire arises and when it is fulfilled, another arises, for example, if a boy wants to marry a beautiful girl and if his desire is fulfilled, his next desire will be to beget children. Desire never leaves him. Even in old age, when there is no strength: his head becomes bald: his gums become toothless and leaning on crutches; even then the attachment is strong and he clings firmly to fruitless desires.        He spends his whole life in fulfilling his desires. At last the inevitable death comes, he leaves his body with desires in mind and to fulfill them he again takes birth and he will never be freed from this cycle of birth and death. He will be liberated from this cycle only by knowing the Supreme Brahman.            One may take delight in yoga or bhoga, may have attachment or detachment. But only he  whose mind steadily delights in Brahman, enjoys bliss, no one else. Brahman alone is …

पहचान कौन?

मै कौन हूँ? मैमन, बुद्धि, अहँकारऔरचित्तनहींहूँ।नहीपञ्चज्ञानेन्द्रियहूँऔरनहीपञ्चमहाभूत॥ नतोप्राण-शक्तिहूँनहीपञ्चवायुनतोसातधातुऔरनहीपञ्चकोशहूँ।पञ्चकर्मेन्द्रियभीनहीं हूँ॥ मुझमेराग, द्वेष, लोभ, मोह, मदएवंमात्सर्यनहींहैं।नहीचतुर्विधपुरुषार्थर्है॥ मैपुण्यएवंपापतथासुखएवंदुःखसेरहितहूँ, न

क्या यह दुनिया वास्तविक है?Keywords- , काश्मीरी शैविस्म, दुनिया, वास्तविक, शंकराचार्य, ब्रह्म सत्यं जगन्मिथ्या, मिथ्या वाद,

क्यायह दुनिया वास्तविक है?
मनुष्यकेजीवनमेअशान्तिहै।वहज्यादापैसेचाहताहै, सुख़-समृद्धिचाहताहै, लेक़िनपानहींसक़ता।स्वस्थरहनाचाहताहै।क़्यारहपाताहै? इनसबप्रश्नोंक़ेसमाधानक़ेरूपमेश्रीशंकराचार्यकहतेहै ब्रह्मसत्यंजगन्मिथ्याजीवोब्रह्मैवनाऽपरः इसकामतलबहै -ब्रह्मसत्यहै जगत ( दुनिया) मिथ्याहै जीवब्रह्महीहैअन्यनही श्रीशंकराचार्यकेवलपरब्रह्मकोसचमानतेहैं।उनकेमतमेयहदुनियामिथ्याहै। इसमिथ्यावादपरकुछलोग़ोंनेआपत्तिउठाईहै।उनकाकहनाहैकिजिसदुनियामेवहजीरहेंहैं.अनुभवकररहेंहैंऐसीदुनिया